क्रेडिट स्कोर क्यों ज़रूरी है और सिबिल रिपोर्ट क्या है

सिबिल स्कोर और सिबिल रिपोर्ट के बारे में अक्सर हमें सुनने को मिलता है और अक्सर हम इन दोनों को एक समझ लेते हैं लेकिन मै आपको बता दूं कि सिबिल रिपोर्ट, सिबिल स्कोर से अलग है और ये क्या है, ये मै आपको इस पोस्ट में बताने वाला हूं।

सिबिल रिपोर्ट किसी व्यक्ति के पिछले सभी लेन – देन का रिकॉर्ड होता है जिसमें ये बताया जाता है कि उस व्यक्ति ने कब लोन लिया है, कब क्रेडिट कार्ड लिया है, लोन की कितनी EMI दी है, उसके कितने अकाउंट हैं, उसने कितने लोन डिफॉल्ट किए हैं या कितनी बार सिबिल के लिए इंक्वायरी की है, आदि।

credit score kyu jaruri hai aur cibil report kya hai

इस पोस्ट में हम सिबिल रिपोर्ट के बारे में सब कुछ जानेंगे इसलिए अगर आपको भी सिबिल रिपोर्ट और सिबिल स्कोर के बीच का डिफरेंस और उनकी जरूरतों के बारे में जानना है तो इस पोस्ट को आखिर तक जरूर पढ़िए, तो चलिए सबसे पहले ये जान लेते हैं कि सिबिल रिपोर्ट क्या होती है –

सिबिल रिपोर्ट क्या है

सिबिल रिपोर्ट आपके क्रेडिट और डेबिट की एक ऐसी रिपोर्ट है जो आपके द्वारा किए गए हर एक लेन – देन के बारे में संपूर्ण जानकारी देती है जैसे कि आपने कब – कब लोन लिया है, कब क्रेडिट कार्ड लिया है, आपके ऊपर कौन सा लोन चल रहा है, कौन से लोन आपने चुका दिए हैं, आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट क्या है, आपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कब और कितना किया है, इस तरह की बहुत सारी इंफॉर्मेशन सिबिल रिपोर्ट में होती है।

अक्सर देखा गया है कि लोग सिबिल स्कोर और सिबिल रिपोर्ट को एक जैसा समझ लेते है लेकिन अगर आप थोड़ा ध्यान दें तो आपको समझ आएगा कि दोनों में कितना बड़ा डिफरेंस हैं।

क्रेडिट स्कोर तीन डिजिट का नंबर होता है जो आपके सारे लेन – देन को सिर्फ तीन अंकों के जरिए एक्सप्लेन कर देता है, जैसे कि अगर आपका क्रेडिट स्कोर 800 है तो इससे साफ – साफ पता चल जाता है कि आपने अपने लोन और क्रेडिट बिल का भुगतान समय पर किया है और आपकी क्रेडिट हिस्ट्री काफी अच्छी है लेकिन अगर आपका क्रेडिट स्कोर 300 के आसपास है तो ये स्कोर बता देता है कि आपकी क्रेडिट हिस्ट्री बहुत बुरी रही है यानी आपने अपने लोन या क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान नहीं किया है या समय पर नहीं किया है।

वहीं अगर सिबिल रिपोर्ट की बात करें, तो ये रिपोर्ट हर एक प्वाइंट की पूरी Summary दिखाती है जैसे कि अगर आप ये देखना चाहेंगे कि आपने कब लोन लिया है तो ये रिपोर्ट ना सिर्फ आपको लोन लेने की डेट दिखाएगी बल्कि लोन की EMI, कितनी EMI दी गई है, कौन से बैंक से लोन लिया गया है और कितना लोन चुकाना बाकी है, आदि के बारे में भी बताएगी, कहने का मतलब ये है कि ये रिपोर्ट आपके सारे लेन – देन की पूरी डिटेल्ड हिस्ट्री होती है और इस रिपोर्ट से हर एक चीज का पता चल जाता है।

पैन कार्ड से सिबिल स्कोर कैसे चेक करे

सिबिल रिपोर्ट कैसे निकालते हैं?

सिबिल रिपोर्ट निकालने के लिए CIBIL.Com पर जाइए, Get Your Free Cibil Score के ऑप्शन पर क्लिक कर दीजिए, अपनी पर्सनल जानकारी जैसे कि नाम, पता, पैन नंबर, कांटेक्ट नंबर आदि भरिए, Continue कीजिए, OTP इंटर करके फिर से कंटिन्यू कीजिए, डैशबोर्ड पर जाइए और अपना सिबिल रिपोर्ट देखिए।

चलिए मैं आपको सिबिल रिपोर्ट निकालने के कुछ डिफरेंट तरीको के बारे में बताता हूं –

CIBIL.Com से सिबिल रिपोर्ट निकालें:

स्टेप 1: सबसे पहले CIBIL की साइट पर जाइए :

लिंक : https://www.cibil.com/

स्टेप 2: फिर Get Your Free Cibil Score के ऑप्शन पर क्लिक करें:

स्टेप 3: अकाउंट क्रिएट करने के लिए अपनी कुछ पर्सनल जानकारी दीजिए जैसे कि –

● ईमेल आईडी
● एक पासवर्ड
● फर्स्ट नेम
● लास्ट नेम
● आईडी टाइप जैसे कि पैन कार्ड
● पैन कार्ड नंबर
● डेट ऑफ बर्थ
● पिन कोड
● मोबाइल नंबर
● राज्य।

इतना करने के बाद एक्सेप्ट एंड कंटिन्यू पर क्लिक कर दीजिए।

स्टेप 4: इसके बाद आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा, उसे दिए गए बॉक्स में इंटर करके कंटिन्यू कीजिए।

स्टेप 5: इतना करते ही आपका अकाउंट क्रिएट हो जाएगा, फिर Go To Dashboard के ऑप्शन पर क्लिक कर दीजिए।

आपका सिबिल रिपोर्ट आपको दिख जाएगा।

एसबीआई की साइट से सिबिल स्कोर निकालें:

Step 1: सबसे पहले SBI के होम लोन Site पर जाएं:

लिंक: https://homeloans.sbi/getcibil

Step 2: फिर अपनी पर्सनल डिटेल्सजैसे कि जेंडर, फर्स्ट नेम, मिडिल नेम और लास्ट नेम भरिए।

Step 3: फिर पर्सनल डिटेल्स के नीचे एड्रेस विवरण में अपने स्टेट, शहर, एरिया पिन कोड आदि की जानकारी दीजिए।

Step 4: इसके बाद Pan Number डालिए।

Step 5: फिर अपना मोबाइल नंबर और ईमेल एड्रेस डाल कर चेक बॉक्स में क्लिक कीजिए और लास्ट में दिए गए सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक कर लीजिए।

Step 6: फिर आपके मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा, उसे इंटर करके सबमिट कीजिए।

इतना करते ही आपका सिबिल रिपोर्ट आपके सामने होगा।

Paisabazaar ऐप से सिबिल रिपोर्ट निकालें:

स्टेप 1: Paisabazaar ऐप डाउनलोड करके लॉगिन कर लीजिए।

स्टेप 2: लॉगिन करने के बाद अपनी व्यक्तिगत जानकारी जैसे कि नाम, डेट ऑफ बर्थ और पिन कोड डालिए और कंटिन्यू के ऑप्शन पर क्लिक कीजिए।

स्टेप 3: कांटेक्ट डिटेल्स में अपना ईमेल अड्रेस, पैन नंबर और मोबाइल नंबर डालिए और चेक बॉक्स पर क्लिक करके कंटिन्यू कीजिए।

स्टेप 4: फिर आपके नंबर पर जो OTP आएगा उसे इंटर कर लीजिए और Get Your Cibil Score पर क्लिक कीजिए।

आपका सिबिल रिपोर्ट निकल आएगा।

सिबिल रिपोर्ट को ऑनलाइन कैसे डाउनलोड करें

सिबिल रिपोर्ट फीस क्या है?

वैसे तो आपको ऐसी साइट्स मिल जाएंगी जो बिल्कुल फ्री में सिबिल रिपोर्ट प्रोवाइड करती है लेकिन सिबिल रिपोर्ट का Paid Subscription Plan भी होता है जिसमें आपको काफी ज्यादा बेनिफिट मिलती है।

फ़्री सर्विस में आप साल में सिर्फ एक बार अपना सिबिल रिपोर्ट निकाल पाएंगे लेकिन Paid Subscription से आप हर रोज अपना सिबिल रिपोर्ट देख सकते हैं, इसके अलावा ये भी जान सकते है कि कब – कब आपका सिबिल स्कोर बढ़ा है और कब घटा है।

अगर आपको ये Paid Subscription लेना है तो मै आपको उन साइट्स का नाम बताता हूं जहां से आप सिबिल पैड प्लान ले पाएंगे –

साइट्स प्लान

CIBIL प्रीमियम प्लान1200 Rs प्रति वर्ष
स्टैंडर्ड प्लान800 Rs प्रति छः माह
बेसिक प्लान500 Rs प्रति माह
TransUnion29.95 डॉलर प्रति माह
Experian399 Rs प्रति माह ( Tax के साथ)
Equifax400 Rs प्रति माह

क्रेडिट/सिबिल स्कोर क्या है? कैसे चेक करें क्रेडिट स्कोर

सिबिल रिपोर्ट क्या दिखाती है?

सिबिल रिपोर्ट में कई सारे सेक्शन होते हैं जिसमें कई सारी इंफॉर्मेशन मिलती है। यहां से आप अपने बैंक अकाउंट, लोन, क्रेडिट लिमिट, EMI पेमेंट आदि के बारे में सारी डिटेल्स पा सकते हैं, आइए जानते हैं कि आपको सिबिल रिपोर्ट में क्या – क्या देखने को मिलता है –

व्यक्तिगत जानकारी जैसे कि –

  • पूरा नाम
  • पता
  • डेट ऑफ बर्थ
  • जेंडर
  • ईमेल एड्रेस
  • मोबाइल नंबर
  • पैन नंबर

क्रेडिट अकाउंट इंफॉर्मेशन जैसे कि –

  • टोटल अकाउंट
  • एक्टिव अकाउंट
  • क्लोज अकाउंट
  • सेटल्ड अकाउंट
  • क्रेडिट हिस्ट्री
  • क्रेडिट लोन
  • लोन

करंट बैलेंस इंफॉर्मेशन जैसे कि –

  • करंट बैलेंस
  • सिक्योर बैलेंस
  • सेटल्ड एंड अनसेटल्ड बैलेंस

क्रेडिट इंक्वायरी जैसे कि –

  • 7 दिन के अंदर की गई इंक्वायरी
  • 30 दिन के अंदर की गई इंक्वायरी
  • 90 दिन के अंदर की गई इंक्वायरी
  • 180 दिन के अंदर की गई इंक्वायरी
  • नॉन क्रेडिट इंक्वायरी
  • क्रेडिट स्कोर
  • इसके अलावा आपने कितना लोन लिया है।
  • कौन से लोन का भुगतान हो चुका है।
  • कौन से लोन बाकी हैं।
  • लास्ट EMI कब दी गई थी।
  • कितनी EMI बची है।
  • क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कब – कब किया गया है।

ये सारी जानकारियां भी क्रेडिट रिपोर्ट में होती हैं।

Bank Cibil Score Kaise Check Kare

क्रेडिट स्कोर क्यों ज़रूरी है.

जब भी हम बैंक या किसी फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट से लोन या क्रेडिट कार्ड लेने के लिए एप्लीकेशन देते हैं तो बैंक हमारा सिबिल स्कोर जरूर चेक करती है, ऐसे में ये जानना जरूरी है कि आखिर क्रेडिट स्कोर क्यों जरूरी होता है तो चलिए मै आपको इसके बारे में बताता हूं –

  • क्रेडिट स्कोर से ये पता चलता है कि आपका पिछला लेन – देन कैसा रहा है।
  • ये स्कोर 300 से 900 के बीच होता है और स्कोर जितना ज्यादा होता है उतना ही अच्छा माना जाता है, बढ़े हुए क्रेडिट स्कोर से लोन और क्रेडिट कार्ड आसानी से लिया जा सकता है।
  • क्रेडिट स्कोर किसी संस्था को व्यक्ति के बारे में ये जानकारी देता है कि उसने अपने पिछले लोन का समय पर भुगतान किया है या नहीं।
  • इससे ये पता चलता है कि कहीं वह व्यक्ति डिफॉल्टर तो नहीं है।
  • व्यक्ति द्वारा लिए गए क्रेडिट कार्ड और उसके बिल के भुगतान की जानकारी भी इससे पता चल जाती है, जिससे बैंक ये तय कर सकता है कि व्यक्ति को लोन देना सही है या नहीं।
  • क्रेडिट स्कोर व्यक्ति के लोन लेने की एलिजिबिलिटी को दर्शाता है।

Paisa Bazaar Se Cibil Score Check Kare

सिबिल स्कोर के क्या फायदे हैं?

सिबिल स्कोर की जरूरत क्यों होती है ये तो आपने जान ही लिया है और अब आप उसके फायदे भी समझ गए होंगे लेकिन उसके अलावा भी सिबिल स्कोर के कई सारे फायदे हैं जो कि इस प्रकार से हैं –

  • सिबिल स्कोर से ये पता लगाया जा सकता है कि आपके द्वारा किया गया लेन – देन कैसा था यानी आपने पिछले लोन का भुगतान किया है या नहीं।
  • अगर लोन का भुगतान नहीं हुआ है तो लोन की कितनी किस्त बची है, ये भी पता लगाया जा सकता है।
  • आप अपने सिबिल स्कोर को देख कर जान सकते हैं कि आप अपने बैंक या अन्य किसी फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट में लोन और क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं या नहीं।
  • आप अपने सिबिल स्कोर की रिपोर्ट से ये देख सकते हैं कि आपने कब – कब किस प्रकार का लोन लिया था जिससे आप आगे की प्लानिंग कर सकते हैं।
  • सिबिल स्कोर से आपको फाइनेंशियली डिसीजन लेने में आसानी होगी।

Faqs

  1. तुरंत सिबिल स्कोर कैसे सुधारें?

    सिबिल रिपोर्ट को तुरंत नहीं सुधारा जा सकता क्योंकि ये आपके पूरे क्रेडिट हिस्ट्री को बताता है जिसे ठीक होने में 6 महीने से 1 साल का समय लग सकता है, लेकिन ये तभी होगा जब आप अपने EMI आदि को समय पर जमा करेंगे और क्रेडिट लिमिट का ध्यान रखेंगे।

  2. अगर मेरा सिबिल स्कोर 650 है तो क्या मुझे होम लोन मिल सकता है?

    कई ऐसे बैंक और मोबाइल एप्लीकेशन है जहां लोन लेने की एलिजिबिलिटी में सिबिल स्कोर लिमिट 600 से शुरू होती है तो आप ऐसे बैंक्स या मोबाइल एप्लिकेशन से लोन ले सकते हैं हालाकि 700 से ज्यादा सिबिल स्कोर आपको आसानी से लोन दिला सकता है।

  3. स्टूडेंट लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर चाहिए?

    स्टूडेंट लोन के अन्तर्गत एजुकेशन लोन आता है और CIBIL के नियम के तहत अगर सिबिल स्कोर 685 या उससे ऊपर है तो एजुकेशन लोन लिया जा सकता है, अगर स्टूडेंट नाबालिक है तो ये लोन स्टूडेंट के माता – पिता उनके स्थान पर ले सकते हैं।

  4. क्या मैं अपना सिबिल स्कोर हटा सकता हूं?

    जी नहीं, आप अपना सिबिल स्कोर हटा नहीं सकते हैं, ये आपके पिछले लेन – देन का रिकॉर्ड होता है जिसमें बैंक लोन या क्रेडिट कार्ड प्रोवाइड करने से पहले ये देखती है कि कस्टमर का पिछला रिकॉर्ड कैसा रहा है यानी उसने पहले जो लोग वगैरह लिया है उसे बकाया चुकाया है या नहीं।

  5. भारत में सबसे ज्यादा क्रेडिट स्कोर क्या है?

    भारत में सबसे ज्यादा क्रेडिट स्कोर 900 तक का है जिसमें 750 या उससे ऊपर का स्कोर सबसे अच्छा माना जाता है, 600 तक का स्कोर ठीक है और उससे कम का स्कोर बुरा होता है, क्रेडिट स्कोर सामान्यतः 300 से 900 के बीच होता है।

निष्कर्ष:

तो आज आपने जाना कि सिबिल रिपोर्ट और सिबिल स्कोर क्यों जरूरी है और इसके फायदे क्या – क्या हैं।

उम्मीद है कि आपको सिबिल रिपोर्ट और सिबिल स्कोर के बीच का डिफरेंस समझ में आ गया होगा और अब आपके मन में सिबिल रिपोर्ट को लेकर कोई डाउट नहीं होगा।

मैंने आपको सिबिल रिपोर्ट में मिलने वाली पूरी जानकारी के बारे में भी एक्सप्लेन कर दिया है जिससे आप इसकी अहमियत अच्छे से समझ सकते हैं।

तो चलिए अब आप हमें बताइए कि –

❓ सिबिल रिपोर्ट निकालने के लिए आप कौन सा मेथड प्रिफर करेंगे? फ्री सर्विस या पैड सर्विस?

❓ आपका सिबिल स्कोर क्या बताता है?

अपना जवाब कमेंट करके बताइए।

Leave a Comment